HomeCommon Health Issue

दाद(Ringworm) के Symptom-लक्षण-cause-treatment-उपचार

Like Tweet Pin it Share Share Email

 

  • दाद(Ringworm)

कोई भी  त्वचा की बीमारियों का आगमन हमारी आधुनिक लाइफस्टाइल के अनियमित  बदलाव के कारण होता है जो मुख्य रूप से गलत खान -पान की वजह से होती है कई प्रकार के ऐसे भोजन है जो दूषित होते हैं उसी दूषित भोजन के माध्यम से शरीर में बैक्ट्रिया फंगस  और विभिन्न तरह के वायरसों का आगमन होता हैI त्वचा का कोई भी रोग का सीधा सबंध हमारे यकृत(liver) से है इस बीमारी को उत्पन्न करने में सूक्ष्मजीव जिम्मेदार होते हैं समस्या यह है की एक बार हमारे शरीर चर्म रोग से ग्रसित हो जाने के बाद शरीर कई और बिमारियों से घिरने लगता हैIकुछ लोग दाद में घरेलु स्वयं उपचार करते हैं जो क्षणिक समय के लिए ही आराम  देता है और पुन: ये रोग वापस आ जाता हैI इसलिए इस रोग का उपचार किसी अच्छे डर्मीटोलॉजिस्ट(त्वचा विशेषज्ञ )से ही करवानी चहियेI दाद हमारे चेहरों से लेकर ,बालों ,नाखून तक शरीर के किसी भी भाग में हो सकता हैI दाद में कभी भी खुद से विज्ञापनों से प्रभावित होकर या केवल दवाई विक्रेताओं के सलाह पर किसी भी तरीके का क्रीम का इस्तेमाल नहीं करनी चाहिए क्यूंकि ऐसे क्रीम फंगल इन्फेक्शन में  कीटाणुओं को नहीं मारते हैं केवल ललापन से आराम मिलता है और पुन: हर मौसम में वापस आ जाता हैIदाद एक tough बिमारी के श्रेणी में आता है जिसका उपचार लंबा चल सकता हैI

  • दाद क्या है?(What is Ringworm?)

 दाद हमारी त्वचा(चर्म) से सबंधित बिमारी है ,यह रोग माइक्रोस्पोरेन ,टीनिया ,ट्राकॉफाइटोन जैसे फंगस या फंगल प्रजाति  के कारण होता हैI ये फंगल कई माध्यमों से हमारे अंगों में प्रवेश कर जाते हैंI खोपड़ी में दाद  ,बाल की जड़ में आक्रमण के कारण होता हैI दाद में बाल (hair)जड़ के पास से टूट जाते हैं और उस स्थान पर लाल रंग का गोल चकतियाँ हो जाता है जिसे सूक्ष्मदर्शी से देखने पर दाद वाले स्थान पर चारों और फफूंद का जाला सा दिखाई पड़ता हैI इस बीमारी में छोटे -बड़े दोनों तरह के वृत्ताकार दाने निकलते हैंI यह संक्रामक रोगों की श्रेणी में आता है अर्थात एक-दूसरे व्यक्ति के संपर्क में आने से भी फ़ैल सकता हैI फंगी  एवं वर्ण जैसे सूक्ष्मजीव हीं इन बीमारियों का कारक बनते हैंI दाद में रोगाणु त्वचा के बाल के जड़ से त्वचा में प्रवेश कर जाते हैंI यह एक मनुष्य में रहकर दूसरे मनुष्य पर बहुत तेजी से प्रभाव डालते हैं कभी-कभी बीमारियों का उत्पन्न करने वाले फंगी शरीर में प्रवेश कर जाते हैं शुरुआती लक्षण रोगी को काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता हैIइसके लक्षण अधिकतर बच्चों एवं किशोरों में होता हैI इसके अंदर एक गोलाकार रिंग बनता हैI दाद एक त्वचा के दूसरी त्वचा के संपर्क में आने के अलावा  किसी संक्रमित जानवर और वस्तुओं को संपर्क में आने से भी फ़ैल सकता हैI  अगर दाद के  प्राथमिक लक्षण में पहचान कर  उपचार न हो तो धीरे-धीरे यह पूरे पूरे शरीर में फैल जाता हैI विशेष रूप से शरीर के पैरों के बिच,जांघ,छाती,नितम्ब,कांख में अधिक फैलता हैI इसमें काफी खुजलाहट होती है या यूँ कहें की दाद ,खाज , खुजली में काफी समानता पायी जाती हैI इसके परजीवी हमारे बाहरी त्वचा की कोशिकाओं  में पनपता हैI 

  • दाद के प्रकार(Types of Ringworms)-

 दाद के लक्षणों के आधार पर विभिन्न वर्गों में विभाजित किया गया है

  • टिनिया बारबाइ (Tinea Barbae)-इस प्रकार के दाद  मुख्य रूप से दाढ़ी और गर्दन पर अधिक होता है जिनमें सूजन और लाल के निशान होते हैं जिसे साथ अक्सर खुजली होता है और उस जगह पर दाढ़ी नहीं आती है अर्थात चिकना हो जाता है क्योंकि वहां पर पर पूरा बाल टूटने लगता हैI 
  • टिनिया क्रूसिस(Tinea crusis)- इस प्रकार के दाद  अधिकतर जोड़ों एवं जांगू के और नितंबों के आसपास की त्वचा पर होते हैं यह सर्वाधिक वयस्क  लड़को और पुरुषों में होता हैI 
  • टिनिया पेडिस (Tinea pedis)-पैर के दाद संक्रमण को टिनिया  पेडिस के नाम से जाना जाता है यह अक्सर नंगे पांव संक्रमित जगह घूमने के कारण होता हैI 
  • टिनिया कैपिटिस (Tinea capitis) -इस प्रकार के दाद खोपड़ी में होते हैं जो मुख्य रूप से बच्चों और किशोरों को प्रभावित करता है अधिकतर बचपन के बाद वाले समय या किशोरावस्था के दौरान होता हैI यह समान्यत: स्कूलों में फैलती हैI गंजापन टिनिया कैपेटिस के कारण ही होता हैI 
  •  दाद का मुख्य कारण(causes of Ringworm)-

दाद का सबसे बड़ा कारण है संक्रामक,ये विभिन्न माध्यमों से फ़ैल सकता है

  • दाद किसी भी संक्रमित व्यक्ति की त्वचा से स्वस्थ व्यक्ति की त्वचा को भी बड़े पैमाने पर  प्रभावित कर सकता है या यूँ कहें की सर्वाधिक यह रोग एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति की छूत से फैलने वाली बिमारी हैI जिसमें व्यक्ति कई तरह के क्रियाकलापों द्वारा एक-दूसरे के कपड़े पहनना ,ग्रसित व्यक्ति की कपड़े  स्वस्थ व्यक्ति के कपड़े एक साथ धुलना, नाहने के बाद एक ही गमछी ,रूमाल,तौलिया का इस्तेमाल करना मुख्य कारक हैI 
  • अगर नहाने के बाद अच्छे तरीके से सूखे कपड़े से शरीर को नहीं पोंछा जाता है तो भी नमी के अवशेष रहने के कारण दाद फ़ैल सकता हैI 
  • शरीर के imune system के कमजोर होने से भी यह बीमारी उत्पन्न हो सकता हैI 
  • दाद दांत से ग्रसित जानवर को संपर्क में आने से भी या उसे स्पष्ट करने से मनुष्य के शरीर में वह बीमारी फैल सकता है अधिकतर घरेलू जानवर गाय, कुत्ते या बिल्ली से अधिक फैलता हैI 
  • प्रदूषित वातवरण या अधिक गर्मीं के कारण भी दाद हो सकता हैI  
  • यह मानव में वस्तु के कारण भी आ सकता है जैसे कि संस्कृत में जो रोजमर्रा जिंदगी में मानव द्वारा इस्तेमाल किया जाता है कंगी ब्रश कपड़े बिस्तर चादर आदिI  
  • अधिक कैसे हुए टाइट कपड़े पहनने के कारण पसीने के काम अवशोषण से भी दाद  उतपन्न होता हैI 
  • दाद के प्रमुख लक्षण (Symptoms of Ringworm)-

 त्वचा के अलग-अलग अंगों में संक्रमण के साथ अलग-अलग परेशानियां महसूस होती है

  • लाल चकता ,त्वचा में खुजली जलन के साथ -साथ  त्वचा पर परतदार दाग उभरा हुआ दिखाई देता हैI 
  • दाद शुरुआत में फैलता है ततपश्चात वृत्ताकर काले दाने और फफोले बन जाते हैंI 
  • दाद  बढ़ता है तो खुजली के कारण रक्तस्राव भी होता हैI
  • त्वचा पर छाला जैसा परत बनना और फिर घाव बनने पर द्रव(रीम) का स्राव होनाI 
  • दाद में जांच और उपचार(Test and Treatment of Ringworm)- 

दाद में चिकित्सक द्वारा शारीरिक परीक्षण के दौरान त्वचा की जांच, KOH TEST, स्किन बायोप्सी माइक्रोस्कोप के सहायता से त्वचा को रचना कल्चर टेस्ट ,खून की जाँच,कभी -कभी डयबिटीज की जांच भी किया जाता हैI  प्रभावित त्वचा को देखने के लिए जरूरत पड़ने पर डॉक्टर ब्लैक लाइट का भी प्रयोग कर सकते हैं,जिसके उपरांत डॉक्टर परिस्थितियों और लक्षणों के आधार पर इलाज करते हैं जिनमें अधिकतर सवंदेनशील क्रीम ,मरहम और दवाइयों के साथ-साथ इंजेक्शन भी दिया जाता हैI  दाद में एंटीफंगल दवाइयों की मदद दी जाती है जो खाने और लगाने दोनों तरीकों में से उपचार के काम आती हैI दाद का उपचार लंबा चलता है क्योंकि प्राथमिक उपचार के बाद हमेशा पुन:होने की संभावना रहता हैI इसलिए डॉक्टर के सलाह के बिना कभी भी उपचार बंद नहीं करनी चाहिएI 

  • दाद में परहेज(घरेलु उपचार)-

दाद में घरेलू उपचार के रूप में केवल खानपान और जितना हो सके संक्रमित व्यक्ति वस्तुओं वस्तुओं जानवरों आदि से बचने का प्रयास  करना चाहिए

  • एक दूसरे का कपड़े शरीर पोछने,पहनने में कभी इस्तेमाल ना करेंI 
  • घर में कोई व्यक्ति अगर दाद से ग्रसित है तो उनके कपड़े की धुलाई अलग बर्तन में करें स्वस्थ व्यक्तियों कपड़े  के साथ नहींI 
  • किसी भी जानवर को स्पर्श करने के बाद अपना हाथ जरूर धोएंI 
  •  पालतू जानवरों रहने की जगह को स्वच्छ और प्रदूषण रहित रखेंI 
  • अगर आपका शरीर गीला  है या त्वचा पर किसी प्रकार के खरोच या चोट लगी हो तो दांत के संपर्क में आने का डर रहता हैIइसलिए पोखरा,नदी ,सार्वजनिक बाथरूम या स्विमिंग पूल का प्रयोग ना करेंI
  • अधिक से अधिक ढीले और गर्मी के दिनों में सूती कपड़े पहनेI 
  •  अधिक गर्मी, प्रदूषित वातावरण  में अधिक समय न बिताएंI 
  •  ध्रूमपान अधिक मांसाहरी भोजन का सेवन ना करेंI 
  • किसी भी व्यक्ति के साबुन ,शैंपू का इस्तेमाल ना करेंI 
  • किसी अच्छे त्वचा विशेषज्ञ से जांच करवाकर उनके परामर्श पर इलाज करवाएंI 
  • नोट- यह चिकित्सकीय आलेख पाठकों को रोग के प्रति जागरूकता बढ़ाने तथा नए रोगों से परिचित करवाने के  लिए लिखा गया है जो किसी प्रकार के स्वयं इलाज की पुष्टि नहीं करता हैI इसलिए उपरोक्त लक्षणों के दिखाई देने पर अपने चिकित्सक से जरूर दिखाएं और उनके द्वारा बताए गए निर्देशों का ईमानदारीपूर्वक पालन  करेंI