HomeSerious Diseases

BREAST CANCER (स्तन कैंसर) के Symptom-लक्षण-cause-treatment-उपचार

Like Tweet Pin it Share Share Email

 

  • BREAST CANCER (स्तन कैंसर)

आधुनिक दौर में मानव की जीने की तरीके में परिवर्तन होने के चलते पूर्ण रूप से स्वस्थ रहना एक चुनौती की तरह हैI  हमारे दिनचर्या में लापरवाही बरतने से और अनियमितता के वजह से न जाने कितने रोग हमारे शरीर में दस्तक दे रहा हैI दुनिया भर में कैंसर की बीमारी  हर आयु वर्ग के लोगों को युवा से लेकर बुजुर्ग तक चाहे महिला हो या पुरुष सभी के शिकार हो रहे हैंI पिछले 10 साल से शरीर में खासकर महिलाओं में जो कैंसर असामान्य  कोशिकाओं के प्रभाव और कोशिकाओं की संख्या में वृद्धि से होने वाले विभिन्न कैंसर में सबसे ज्यादा प्रभावित करने वाले कैंसर ब्रेस्ट कैंसर हैI ब्रेस्ट कैंसर हालंकि की पुरुषों में को भी होता है परन्तु अपवाद के रूप में अर्थात काफी कम लोगों में पुरुषों में ब्रैस्ट कैंसर देखने को मिलता हैI क्या एक ऐसी बीमारी है जिसको जितनी जल्दी पकड़ा जाए उतना ही  कम समय में कारगर उपचार हो सकता हैI इसलिए यह जरूरी है इसके बारे में पूरी जानकारी हो जिससे हम इसके लक्षणों को पहचान ले ताकि शुरुआती दौर में ही इसका सरल रूप से उपचार हो सकेI अगर महिलाएं स्वयं परीक्षण करें तो इस रोग को पहले दौर में ही पहचाना जा सकता है शुरुआती दौर में यदि त्वचा को छूने से दर्द दे रही रही है या कहीं गाँठ हो जिसको महसूस पता लग सके सके तो उसके बाद राहें आसान हो जाएगीI

  • ब्रेस्ट कैंसर क्या है?

कैंसर का वह प्रकार जो महिलाओं के अंदर  स्तनों(Breasts) में पनपता हैI कैंसर के मामले महिलाओं में भी आजकल काफी सामने आ रहे हैं जिसमें ब्रेस्ट कैंसर सर्वाधिक 70 % हैI  आंकड़ों के मुताबिक 8 में से एक महिला की मौत के कारण ब्रेस्ट कैंसर बनता हैI ब्रेस्ट कैंसर में स्तन की कोशिकाओं में ट्यूमर उतपन्न होता है शरीर के अन्य भागों को भी प्रभावित करता हैI इसके लक्षण अधिकांशत: जिनकी उम्र 40 वर्ष या उससे अधिक हो उनमें  देखने को मिलता हैI हमारा शरीर कोशिकाओं (cells)से बना हुआ है जिसका जीवन चक्र सिमित रहता है अर्थात शरीर में कोशिकाओं का क्षय होना और फिर नए कोशिकाओं का निर्माण होता है परन्तु जब कैंसर होता है तो कोशिकाएं नष्ट होने के बजाय केवल बढ़ने लगती है ,कोशिकाओं की संख्या  जब अनियंत्रित रूप से बढ़ते हैं तो यह एक ट्यूमर(गाँठ) का रूप ले लेता हैI गांठ धीरे -धीरे कैंसर का रूप ले लेता है यह शरीर के किसी भी अंग(भाग)में हो सकता है अगर स्तन में यह गांठनुमा आकृति दर्द के साथ उतपन्न होती है तो उसे स्तन कैंसर का नाम दिया जाता हैI कोशिकाओं की संख्या जब अनियंत्रित होने लगती है तो लगातार उत्तकों (Tissues)  की संख्या में भी इजाफा होती है, यह उत्तकों का समूह लागतार बढ़ते रहने से उत्तक के टुकड़े खून के रास्ते शरीर के अन्य हिस्सों में पहुंचते हैं और नई जगह पर विस्तार करने लगते हैं जिसे मेटास्टेसिस कहा जाता हैI स्तन रोगों के कई प्रकार होते हैं वह संक्रमण के साथ या बिना संक्रमण के आसन पर गांठ का कारण बन सकते हैं 

  • स्तन कैंसर के लक्षण(Symptoms)-

ब्रेस्ट कैंसर का लक्षण को एकाएक पहचानना बहुत ही मुश्किल होता है इसलिए सप्ताह में महिलाओं को हमेशा स्वयं परीक्षण करनी चाहिएI  स्तन में कहीं गांठनुमा आकृति  उत्पन्न या कहीं दर्द का आभास हो या किसी प्रकार के अन्य विकार आये तो समझ लें की यह ब्रेस्ट कैंसर का दस्तक है,अगर शुरूआती दिनों में इसकी पहचान करके उपचार शुरू हो जाए तो यह पूरी तरह से ठीक हो सकता हैI  

  •  किसी एक स्तन में किसी भी तरह के मांस या गांठनुमा आकृति उतपन्न होना,इसके दबाने  उतनी दर्द नहीं होतीI 
  • कैंसर वाली गांठ कभी गोलाकार नहीं होते और ना ही शुरुआती दिनों में दर्द होता हैI 
  • स्तन के चमड़ी (त्वचा)मोटी और सुन्न(asleep/dead) हो जाता है अर्थात उसमे सक्रियता कम दिखाई देने लगती हैI 
  • स्तन में किसी प्रकर की गड्ढा(dimple) आ जाता हैI 
  •  जिस प्रकार से किसी घाव या जख्म को सूखने पर हमारे शरीर के त्वचा सुखकर पतली परत बना लेता है ठीक उसी प्रकार से स्तन  nipple पर पतली परत बन जाता हैI इसे चिकित्सीय भाषा में (Paget’s disease)पगेट रोग कहा जाता हैI
  • स्तन  में सूजन हो जानाI 
  •  स्तन की त्वचा  लाल दिखाई देती हैI 
  •  स्तन कभी -कभी इन्फेक्शन की वजह से गांठ फट  जाता है, जिससे बदबूदार मवाद आने लगते हैं जो ब्रेस्ट कैंसर के लक्षण हो सकते हैंI  
  • स्तन के आकार में भी परिवर्तन देखने को मिलता हैI
  • ब्रेस्ट कैंसर जब धीरे -धीरे फैलकर  लिम्फनोट्स तक फ़ैल जातें हैं तो  
  • स्तन कैंसर का प्रमुख कारण-

किसी भी कैंसर का मुख्य  कारण कोशिकाओं का असमान्य  वृद्धि है, कोशिकाओं के वृद्धि हो या अन्य  कारण कैंसर की बीमारियां हमारे लापरवाह भरी जीवनशैली ,अशुद्ध खाद्य पदार्थ और नशे के आदत इसका मुख्या कारक हैIपहले यह समस्या अधिकतर बुजुर्ग महिलाओं में देखने को मिलती थी परंतु आज स्तन कैंसर इतना प्रभावी हो चुका है किसी भी उम्र में महिलाएं इसका शिकार बन सकती हैं, इसलिए यह बेहद जरूरी है कि हम इसके प्रमुख कारणों को नसीर की जान है बल्कि  दिनचर्या में हमेशा सजग और सावधानी बरतेंI

  • यह  अनुवांशिकता के कारण भी हो सकता है अगर आपके परिवार में कोई भी महिला या पुरुष स्तन कैंसर से पीड़ित है तो इसके लक्षण आपने भी आ सकती हैं परंतु इस रोग में अनुवांशिकता  उतना मायने नहीं रखताI 
  • प्रोस्टेट सबंधी किसी तरह की समस्याएं को नजर अंदाज करने से अगर हम प्रोस्टेट ग्रंथि में हो रहे हैं किसी तरह के समस्याओं को शुरुआती उपचार नहीं करवाते हैं सुरिया गंभीर रूप धारण कर कैंसर का कारण बन सकता हैI 
  •  बाजारू भोजन,गर्म भोजन,रिफाईनयुक्त भोजन और खराब जीवनशैली  के साथ -साथ शराब, बीड़ी सिगरेट गुटका (ध्रूमपान) आदि का सेवन करने सेI
  • धूल ,धुआं, मिट्टी और वायु  प्रदूषण की वजह से स्तन कैंसर हो सकता हैI 
  • सिगरेट और तंबाकू ऐसे दो कारक है जो फेफड़ों ,मुंह, स्तन का कैंसर पैदा करने का मुख्य कारक हैI 
  • अगर किसी महिला को पहले से गर्भाशय कैंसर की समस्या है तो उन्हें स्तन कैंसर से ग्रसित होने की आशंका बनी रहती हैI 
  • डिप्रेशन, हाइपरटेंशन,मोटापा और अस्थमा  बिमारी के अधिकतम दवाइयों ज सेवन करने से भी स्तन कैंसर उत्पन्न हो सकता हैI
  • अधिक मोबाइल ,गैजेट्स जैसे आधुनिक उपकरण जिनमें रेडिएशन  सक्रिय रहता है का इस्तेमाल से भी रेडिएशन के संपर्क में आ जाने से स्तन कैंसर स्तन कैंसर होने की आशंका बनी रहती हैI  
  • अधिक उम्र में वैवाहिक जीवन शुरुआत करने से, उम्र में गर्भवती होने सेI
  • ब्रेस्ट कैंसर का इलाज और प्रक्रिया(TREATMENT)-

 सभी लोग जानते हैं की महिलाओं का स्तन का प्रमुख  कार्य मां बनने के बाद अपने शिशु के दूध पिलाकर उनका लालन -पोषण करना होता हैI स्तन(BREAST) का वह भाग जहां दूध बनता है उसे NODULES(ग्रंथि) कहा जाता हैI स्तन का वह भाग जहाँ से  दूध बाहर आता है उसे DUG कहा जाता हैIस्तन कैंसर इन दोनों भागों में परिवर्तन के कारण होता हैI स्तन कैंसर में लक्षण और स्थितियां ,अवस्था(Stages) जानकर उसके अनुसार थेरेपी और दवाइयां द्वारा उपचार किया जाता हैI उसके उपरांत  Stages के आधार पर रेडिएशन थेरेपी , कीमोथेरेपी,हार्मोनल थेरेपी आदि द्वारा उपचार किया जाता हैI इसके अलावा कई प्रकार के सर्जरी और दवाईयां दी जाती हैI

  •  स्तन कैंसर से बचने के लिए घरेलु उपाय और सावधानियां-

महिलाओं को अक्सर कई प्रकार के समस्याओं का सामना करना पड़ता है जिसमें सांस लेने से लेकर जनन क्षमता खानपान कामकाज और पूरे परिवार का देखभाल करना उन्हीं कंधों पर होता है जिसके कारण काफी कम समय अपने लिए निकाल पाती हैं  आमतौर पर अगर देखा जाए तो जितना परिवार को देखभाल करना जरूरी है उतना ही एक गृहणी हो या कामकाजी औरत के लिए अपने शरीर का देखभाल करना बेहद महत्वपूर्ण हैI 

  • हमेशा महीने के किसी निश्चित तारीख को परिवार के किसी सदस्य की मदद से त्वचा में उपस्थित होने वाले किसी भी लाल काले या किसी अन्य रंग के दाग धब्बे को देखने का प्रयास करनी चाहिएI 
  •  अगर दाग शरीर के किसी अंग में हो या  गठीला हो या किसी प्रकार के दर्द उत्पन्न हो तो चिकित्सक से संपर्क करना चाहिएI 
  • कैंसर के उत्पन्न दाग या गाँठ अधिकतम  पीठ, स्तन की दायीं और बाजुओं की तरफ होता हैI 
  • हमारे शरीर में करीब  800 लसीका ग्रंथियां होती है जिनमे करीब 300 ग्रंथिया ऐसी होती हैं  जो शरीर में बिमारी का पता लगता हैं लिम्फ ग्रंथियां दोनों हाथों के अंदर  या बगल में और जांघों के जोड़ में होता है इनमें किसी तरह की सूजन शरीर का संकेत होता हैI 
  • सिगरेट और तम्बाकू से बिल्कुल तौबा कर लेंI 
  • समय पर शादी और गर्भधारण करेंI 
  • चाय या कॉफी कम मात्रा में लेंI 
  • ताज़ी सब्जियों  का सेवन करेंI 
  • नियमित योग और व्यायाम करेंI  

उपरोक्त दी गई जानकारी चिकिसकों और किताबों के अध्ययन के माध्यम से लिखी गयी हैI इस आलेख का मकसद अपने पाठकों को जागरूकता बढ़ाने तथा इस रोग के प्रति सचेत करवाना हैI  अगर आप इस रोग से अवगत हो जाते हैं या किसी प्रकार के लक्षण दिखाई दे तो स्वयं इलाज प्रारंभ ना करें तुरंत ही किसी अच्छे सर्जन और यूरोलॉजिस्ट से मिले क्योंकि हम किसी भी प्रकार के इलाज की पुष्टि नहीं करतेI